Jeff Bezos WhatsApp Hack? दुनिया के सब से अमीर आदमी Amazon के मालिक का WhatsApp हैक कैसे हुआ ?

दुनिया के सब से अमीर आदमी Amazon के मालिक Jeff Bezos का WhatsApp हैक कैसे हुआ। 

दुनिया के सबसे अमीर आदमी जो कि Amazon के फाउंडर भी हैं जिनका नाम है Jeff Bezos  उनका भी WhatsApp हैक हो गया है।

दरअसल अब तक आपने सुनी ही लिया होगा कि Amazon के फाउंडर Jeff Bezos का WhatsApp हैक हो गया है क्योंकि यह बात सुर्खियों में है आज कल। लेकिन सवाल यह है WhatsApp हैक हुआ?
या Jeff Bezos जो  फोन इस्तेमाल कर रहे थे iPhone X  वह हैक हुआ है?
या फिर उनकी कोई गलती थी?

आइए नजर डालते हैं पूरी बात पर कैसे उनका WhatsApp हैक हुआ था।

आप पिछले कुछ दिनों से यह खबर सुन रहे होंगे या पढ़ रहे होंगे कि सऊदी के मोहम्मद बिन सलमान ने Jeff Bezos का फोन हैक कर लिया है। यह खबर द गार्जियन के हवाले से थी फिलहाल इसकी जांच चल रही है।

यह पूरा मामला 2018 का है रिपोर्ट के मुताबिक Amazon के फाउंडर Jeff Bezos  और मोहम्मद बिन सलमान के बीच WhatsApp पर कुछ बातचीत हुई थी। और इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि मोहम्मद बिन सलमान ने Jeff Bezos को WhatsApp पर एक 4,4MB की फाइल भेजी और यह एक वीडियो था जिसमें अरबी टेक्स्ट थे और स्वीडन का फ्लैग था।

Jeff Bezos Mohammad Bin Salman: Google Photo

Amazon के फाउंडर Jeff Bezos ने वीडियो को प्ले किया और उनका WhatsApp हैक हो गया सिर्फ WhatsApp ही नहीं पूरा मोबाइल उनका हैक हो गया और प्राइवेट कम्युनिकेशन तक हैक हो गई। बताया जा रहा है कि अटैकर्स ने उनके ईमेल्स फोटोस और काफी कीमती डाटा चोरी कर लिया।  लेकिन क्या ऐसा मुमकिन है?।

WhatsApp हैक होने का कारण क्या है ?

अगर यह मुमकिन है तो सवाल यह उठता है कि Jeff Bezos का WhatsApp हैक होने के पीछे कारण क्या है।
क्या उस वीडियो फाइल में कुछ मालवेयर था?
या फिर WhatsApp की कोई खामी यानी के (Bug) था?
या फिर जो iPhone X  इस्तेमाल कर रहे थे उस फ़ोन में ही कोई (Bug) खामी था?।

 ये भी पढ़ें: क्या 1 फरवरी से WhatsApp बंद हो जायगा? कहीं इस लिस्ट में आपका मोबाइल तो नहीं। 

WhatsApp पर भेजी गई वीडियो में मैलवेयर नहीं मिला।

आपको बता दें कि ज्यादातर मैलवेयर से इनफेक्टेड वीडियो के माद्धयम से फोन हैक होते हैं। और जांच में यह बात आसानी से पता चल जाती है लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं है। हैरान करने वाली बात ये है कि फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स ने Jeff Bezos के iPhone X  की और भेजे गए वीडियो की जांच की तब पता चला वीडियो में कोई भी खराबी नहीं थी।

इस पहले भी WhatsApp पर हुआ था पेगासस स्पाइवेयर का अटैक।

इससे पहले भी WhatsApp पर हैकिंग की गई थी जो कि पेगासस स्पाइवेयर इजराइली NSO ग्रुप का था। और यह भी उससे ही मिलता जुलता है।  लेकिन ये उस से भी काफी ज्यादा खतरनाक हैकिंग थी।

आजकल ज्यादातर हैकर हैकिंग करने के लिए वीडियो फाइल का ही इस्तेमाल कर रहे हैं क्योंकि वीडियो फाइल में कुछ ऐसे Malicious Code इन बिल्ड कर दिए जाते हैं जिसके तहत जो भी उस वीडियो फाइल को प्ले करता है अपने डिवाइस में तो वह Code उस डिवाइस में आ जाते हैं और उसके बाद हैकर्स को उस डिवाइस का रिमोट एक्सेस मिल जाता है और इसका फायदा उठा कर हैकर यूज़र्स की डाटा चोरी कर लेते हैं। और वीडियो भेजने का सबसे ज्यादा इजी आसान और पॉपुलर प्लेटफार्म है WhatsApp

POCO X2 120Hz रिफ्रेश रेट डिस्प्ले वाल फ़ोन को रिब्रांड किया Redmi K30 से 4 फरवरी को होगा लॉन्च।

अब सवाल यह है क्या WhatsApp में कोई खामी (Bug) थी ?

इस बारे में WhatsApp ने अपनी सफाई में यह कहा है कि WhatsApp एंड टो एंड इंक्रिप्शन से लैस है ऐसे में WhatsApp पर यह हैकिंग संभव नहीं है। उन्होंने हवाला दिया है iPhone X को और कहा है कि यह बग iPhoneX में था जिस कारण Jeff Bezos का फ़ोन हैक हुआ।
और Apple/iPhone कंपनी की तरफ से कोई भी जवाब नहीं आया।

और ऐसा पहली बार नहीं है WhatsApp के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने इसको नकारा हो इससे पहले भी ऐसे कई सारे अटैक हुए थे जिस को नकार दिया था। हालांकि पेगासस  स्पाइवेयर अटैक में बड़े-बड़े सरकारी कर्मचारी शिकार बने थे तब वह बग WhatsApp में ही था और मार्क जुकरबर्ग ने स्वीकार भी किया था। 

क्या अब WhatsApp  सिक्योर है ?

अब मैं अपना ओपिनियन बताऊं WhatsApp इतना ज्यादा इनसिक्योर नहीं है। ना ही इतना गलत है जितना हम समझते हैं। दरअसल आज के वक्त में WhatsApp का सबसे ज्यादा उपयोग होता है और इसका फायदा उठाते हैं हैकर्स। इस से पहले इस हैकिंग को अंजाम दिया जाता था ईमेल के माध्यम से एसएमएस के माध्यम से लेकिन अब लोग ज्यादा WhatsApp पर एक्टिव रहते हैं और हैकर इस चीज का फायदा उठाते हैं।

क्या आपको इस WhatsApp हैकिंग से डरना चाहिए?

अब हमें यह बात कर लेनी चाहिए क्या आपको इस से डरना चाहिए। देखिए ज्यादा डरने की बात नहीं है क्योंकि WhatsApp पर एंड टू एंड इंक्रिप्शन फीचर है जिसके तहत ऐसी हैकिंग करना बहुत मुश्किल होता है और यह एक खतरनाक और जटिल हैकिंग है। इसके लिए काफी रकम खर्च होती है ऐसी हैकिंग बड़े-बड़े लोगों के साथ होती है जैसे कि पेगासस स्पाइवेयर में भी बड़े-बड़े लोगों पर अटैक हुआ था। और ये उस से भी ज्यादा खतरनाक थी जिसने दुनिया के सबसे बड़े अमीर आदमी को हैक क्या गया। अगर आप एक  आदमी हैं तो डरने की बात नहीं है। लेकिन अगर आप एक सरकारी कर्मचारी, या पत्रकार, या वकील, हैं या कोई राजनेता, हैं तो आपको सावधान रहने की ज़रूरत है।

Leave a Comment